विज्ञापन

नई दिल्ली। कांग्रेस ने पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की कोशिश में चीन के अड़ंगा डालने के बाद भाजपा सरकार पर हमला बोला और कहा कि-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश नीति कूटनीतिक आपदाओं का सिलसिला है।कांग्रेस ने संयुक्त राष्ट्र में इस कवायद में रोड़ा अटकाने को लेकर चीन और पाकिस्तान की भी आलोचना की। कांग्रेस अध्यक्ष-राहुल गांधी ने भी पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि-कमजोर प्रधानमंत्री चीन से डरे हुए हैं।चीन भारत के खिलाफ फिर भी वह अब चीन के खिलाफ एक भी शब्द नहीं बोल पा रहे हैं।कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि-आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में यह एक दुखद दिन है।उन्होंने आज फिर आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई को चीन-पाक गठजोड़ ने आघात पहुंचाया है।

सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ’56 इंच की ‘हगप्लोमेसी’ (गले मिलने की कूटनीति) और झूला-झुलाने के खेल के बाद भी चीन-पाकिस्तान का जोड़ भारत को ‘लाल-आंख’ दिखा रहा है। एक बार फिर एक विफल मोदी सरकार की विफल विदेश नीति उजागर हुई।’उल्लेखनीय है कि-पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की भारत की कोशिश को एक और झटका लगा है। दरअसल, चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगा दी है।

मामले पर क्या बोला विदेश मंत्रालय

नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि हम निराश हैं, लेकिन हम सभी उपलब्ध विकल्पों पर काम करते रहेंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि भारतीय नागरिकों पर हुए हमलों में शामिल आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में खड़ा किया जाए। मंत्रालय ने कहा कि हम उन देशों के आभारी हैं जिन्होंने अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की कवायद में हमारा समर्थन किया है|

10 साल में चौथी बार चीन ने मसूद अजहर को बचाया

पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की भारत की कोशिश को एक और झटका लगा है। दरअसल, चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगा दी है। बीते 10 साल में संयुक्त राष्ट्र में अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने का यह चौथा प्रस्ताव था।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here