विज्ञापन

रायपुर|लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही रायपुर लोकसभा क्षेत्र में भी आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर डॉ.बसवराजु एस.ने आज जिला कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए बताया कि-भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा निर्वाचन 2019 के कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही रायपुर लोकसभा क्षेत्र के चुनाव की तैयारियां शुरु हो गई हैं।रायपुर में 23 अप्रैल को मतदान होगा।इसके लिए 28 मार्च से 4 अप्रैल तक प्रत्याशियों व्दारा नामांकन पत्र भरे जा सकेंगे।नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा 5 अप्रैल को होगी तथा 8 अप्रैल तक नाम वापस लिए जा सकेंगे।मतगणना 23 मई को होगी।

रायपुर लोकसभा क्षेत्र में 9 विधानसभा में 20.96 लाख मतदाता

रायपुर लोकसभा क्षेत्र में रायपुर जिले की सात विधानसभा सहित बालौदाबाजार-भाटापारा जिले की दो विधानसभा इस तरह कुल 9 विधानसभा क्षेत्र आते है जिनमें कुल मतदाताओं की संख्या 20 लाख 96 हजार 463 हैं। इनमें 264 ट्रांसजेन्डर मतदाता भी शामिल हैं।इसके अतिरिक्त सुरक्षा सेना के 607 सर्विस मतदाता भी डाक मतपत्र के माध्यम से अपना वोट डाल सकेगें।जिन्हें डाक मतपत्र भेजा जाएगा।रायपुर लोकसभा क्षेत्र में पुरुष मतदाताओं की संख्या 10 लाख 64 हजार 865 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 10 लाख 31 हजार 334 है। रायपुर जिले में 18 से 19 आयु वर्ग के कुल 34097 मतदाता है। रायपुर लोकसभा क्षेत्र में 9 विधानसभा क्षेत्र शामिल है।इनमें बलौदाबाजार, भाटापारा, धरसींवा, रायपुर ग्रामीण, रायपुर नगर पश्चिम, रायपुर नगर उत्तर, रायपुर नगर दक्षिण,आरंग तथा अभनपुर विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं।नए मतदाताओं को जोड़ कर तथा संशोधित की गई मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 22 फरवरी को किया जा चुका है।

निःशक्तजनों के लिए 8, महिलाओं के लिए 34 तथा आदर्श मतदान केन्द्र 51

रायपुर जिले मे कुल 1852 मतदान केन्द्र है।08 मतदान केन्द्रों को सहायक मतदान केन्द्र हेतु प्रस्तावित किया गया है। रायपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के 9 विधानसभा क्षेत्रों को मिला कर कुल मतदान केन्द्रों की संख्या 2329 है। जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों में 1169 तथा शहरी क्षेत्रों में 1160 मतदान केन्द्र हैं। रायपुर जिले के मतदान केन्द्रों में निःशक्तजनों के लिए 8, महिलाओं के लिए 34 तथा वेबकॉस्टिंग के लिए 468 मतदान केन्द्र तथा 51 आदर्श मतदान केन्द्र निर्धारित किए गए है। रायपुर जिले के कुल 1852 मतदान केन्द्रों में से 175 संवेदनशील श्रेणी के है तथा विधानसभा निर्वाचन 2018 के दौरान 03 मतदान केन्द्र क्रिटिकल मतदान केन्द्र थे।लोकसभा चुनाव के लिए कुल 5150 बैलेट मशीनें, 2178 कंट्रोल यूनिट तथा 2216 वीवीपैट मशीनें उपलब्ध है। इनमें प्रशिक्षण के लिए रखी गई क्रमशः 87, 90 व 89 मशीनें शामिल है।

शिकायत के लिए बना कन्ट्रोल रुम

चुनाव से संबंधित सामान्य शिकायतों के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी कलेक्टोरेट परिसर में एक कंट्रोल रुम स्थापित किया गया है।डिप्टी कलेक्टर पूनम शर्मा इसकी प्रभारी अधिकारी है।कंट्रोल रुम का फोन नंबर 1950 व 0771-2445785।चुनाव में व्यय से संबंधित शिकायतों के लिए लेखाधिकारी शरद कुमार परसराई को प्रभारी अधिकारी बनाया गया है।उनका संपर्क फोन नंबर 0771-2435444 है।निर्वाचन व्यय अनुवीक्षण के लिए 147 सेक्टर अधिकारी,69 उड़नदस्ता और 25 स्थैतिक निगरानी दल गठित कर उन्हें मजिस्ट्रेट शक्तियां प्रदान की गई है।

सिविल,सुविधा व समाधान मोबाइल ऐप का होगा उपयोग

विधानसभा चुनाव में उपयोग किए गए मोबाइल ऐप सी-विजिल,सुविधा व समाधान ऐप का उपयोग निर्वाचन प्रक्रिया अधिसूचना जारी करने की तारीख से से क्रियाशील हो जाएंगे।इन ऐप की मदद से चुनाव की प्रक्रिया में काफी मदद मिलती है तथा काम आसान हो जाता है।

अधिकारी व कर्मचारी निर्वाचन आयोग के प्रतिनियुक्ति पर

लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 28-क के अधीन निर्वाचनों के संचालन के लिए नियोजित समस्त अधिकारी व कर्मचारी परिणाम घोषित होने तक निर्वाचन आयोग में प्रतिनियुक्ति पर समझे जाएंगे और उस समय तक निर्वाचन आयोग के नियंत्रण,अधीक्षण और अनुशासन के अधीन रहेंगे। कोई भी शासकीय कर्मचारी किसी राजनीतिक आन्दोलन में न तो भाग लेगा न उनके सहयोग के लिये चन्दा देगा और न ही किसी प्रकार का सहयोग देगा।कोई भी अधिकारी और कर्मचारी किसी भी राजनैतिक सभा या रैली में शामिल नहीं हो सकेगा।किन्तु ऐसे अधिकारियों को छोड़कर जिन्हें ऐसी सभा के आयोजन में कानून एवं व्यवस्था के लिए सुरक्षा के लिए या कार्रवाई नोट करने के लिए तैनात किया गया हो शामिल हो सकेगें।

मतदाता जागरुकता हेतु स्वीप कार्यक्रम

चुनाव में मतदाताओं की जागरुकता के लिए ″स्वीप″ कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है।इसमें विभिन्न शासकीय विभागों सहित नगर पालिक निगम,नगर पालिका परिषद,स्कूल तथा कालेजों के युवाओं को भी जोड़ा जा रहा है।स्वीप कार्यक्रम के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए इलेक्ट्रॉनिक व प्रिंट मीडिया की भी मदद ली जा रही है।रायपुर जिले में कुल 1718 शस्त्र उपलब्ध है जिसमें से 1035 शस्त्रों को जमा करा लिया गया है।शेष सभी शस्त्र को निर्धारित समयावधि में जमा करा लिया जावेगा।

लाउड स्पीकर उपयोग की लेनी होगी अनुमति

निर्वाचन अभियान में प्रचार प्रसार हेतु सभी राजनैतिक पार्टियों व प्रत्याशियों को लाउड स्पीकर व अन्य ध्वनि विस्तारक यंत्रों के उपयोग के पहले जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से विधिवत अनुमति लेनी होगी।आम सभाओं के दौरान स्थिर दशा में अथवा किसी भी प्रकार के वाहनों में लगाए गए लाउड स्पीकर या ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे के मध्य नहीं किया जा सकेगा।

विज्ञापन