विज्ञापन

रायपुर|छ.ग सहायक शिक्षक फेडरेशन के प्रांताध्यक्ष-मनीष मिश्रा,प्रांतीय सचिव-सुखनन्दन यादव,कोषाध्यक्ष-शिव सारथी सहित सभी प्रांतीय संयोजक-रंजीत बनर्जी,सीडी भट्ट,अश्वनी कुर्रे,बसन्त कौशिक,अजय गुप्ता,छोटेलाल साहू,हुलेश चन्द्राकर,संकीर्तन नन्द,संभागीय प्रभारी दिलीप पटेल,सिराज बख्श,शिव मिश्रा,कौशल अवस्थी,रवि प्रकाश लोहसिंघ ने प्रशासन द्वारा राजपत्र में प्रकाशन प्रक्रिया का स्वागत किया है|फेडरेशन ने विश्वास व्यक्त किया है कि-उम्मीद है हमारे सेवा शर्तों का राजपत्र में प्रकाशन हमारे लिए सौगात लेकर आएगा|इसमें हमारे लिए नियमित शिक्षको की ही भाँति 7 वर्ष में पदोन्नति तथा पदोन्नति से वंचित सहायक शिक्षको के लिए 10 वर्ष की सेवा अवधि उपरांत क्रमोन्नत वेतनमान का लाभ दिया जाएगा|जिसकी माँग छ.ग सहायक शिक्षक फेडरेशन संगठन निर्माण के समय से ही करता आ रहा है।

प्रांतीय अध्यक्ष मनीष मिश्रा का कहना है कि-आज प्रदेश का सहायक शिक्षक सबसे ज्यादा अपने वेतन विसंगति और क्रमोन्नति के लिए परेशान है,क्योंकि हमें इसी के चलते प्रतिमाह 12 से 15 हजार रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है|जिससे हमारी आर्थिक स्थिति खराब होते जा रहा है यही कारण है कि-प्रदेश का लाखो सहायक शिक्षक आज शोषित और प्रताड़ित है|उसका स्थायी हल सिर्फ वेतन विसंगति दूर करना व क्रमोन्नत वेतनमान का लाभ देना है,क्योंकि 1लाख 9 हजार सहायक शिक्षको को पदोन्नति देना सम्भव नही है,ऐसे में एकमात्र विकल्प उच्च पद वेतनमान देना ही है,और यही नियम राज्य शासन के अन्य कर्मचारियो के लिए है|जिसमें नियमित शिक्षक शामिल है,उन्हें हर 10 वर्ष में समयमान वेतनमान देकर आर्थिक लाख दे दिया जाता है,जबकि हमें 7 वर्ष की सेवा अवधि के लिए 1 वर्ष ही समयमान वेतनमान दिया गया और जिसे पुनरीक्षित वेतनमान के नाम पर रोक दिया गया जबकि अगर सहायक शिक्षको का वेतन समयमान के आधार पर गणना किया जाता तो हमारा वेतनमान आराम से 9300-4200 में आता औए हमारी वेतन विसंगति का अंत हो जाता पर पूर्ववर्ती सरकार ने जानबूझकर हमारे आर्थिक लाख को रोक दिया पर अब जबकि वर्तमान सरकार और प्रशासन द्वारा सेवाशर्तो का निर्धारण किया जा रहा है तो निश्चित ही वह हम सहायक शिक्षको के विसंगति युक्त संविलियन को दूर करने के लिए किया जा रहा होगा अगर प्रशासन और शासन का यह राजपत्र पदोन्नति क्रमोन्नति के साथ जारी होता है तो निश्चित ही फेडरेशन इसका दिल खोलकर स्वागत करेगा।

प्रसन्नता व्यक्त करते हुए फेडरेशन के जिला पदाधिकारी शंकर साहू,ढोलराम पटेल,गजेंद्र धुमसरे,पुरषोत्तम झाड़ी,रमेश पटेल,मनोज राय,जितेंद्र कुटाले, तुलसीराम पटेल,देवराज खुटे,देवेंद्र हरमुख,प्रह्लाद वैष्णव,गोवर्धन सारके, याजवेंद्र कुमार गजेंद्र,राजेन्द्र ठाकुर,शिव साहू,ईश्वर चन्द्राकर,विश्वकांत शर्मा,विश्वास भगत,टिकेश्वर भोई,सन्तोष बट्टी, चन्द्रदेव राम,हरकेश भारती बैजनाथ यादव,देवनारायण गुप्ता,अशोक नाग,देवेंद्र देवांगन,मुकेश सिन्हा,विनोद पाल,जलज थवाईत,हेम साहू,केतन साहू,अशोक तिवारी,यादराम हिरवानी, संजय यादव,मिलन साहू,रोशन लाल साहू,नेहा खंडेलवाल,छन्नू साहू,भोजराम सिन्हा,सुलभ त्रिपाठी,ऋषि राजपूत,इंद्रजीत शर्मा, शंकर नेताम,श्रवण मरकाम,उत्तम बघेल,ईश्वर कश्यप,खिलेश्वरी शांडिल्य,पिंकी शर्मा,शहीदा खान आशा कोरी ने इसे सहायक शिक्षको के लिए नई राह बताया ह।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here